रविवार, 5 जुलाई 2009

रविवार












रविवार का दिन है प्यारा,
आज हमारी छुट्टी है।
नहीं यूनिफार्म से दोस्ती,
स्कूल-बैग से कुट्टी है।

मारेंगे मित्रों संग मस्ती,
मन-पसंद का खाएंगे।
झूम-झूम कर नाचेंगे हम,
गीत खुशी के गाएंगे।

*****

3 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

मै एक टीचर हू और मेरी भी छुट्टी है

Kamlesh ने कहा…

सचमुच बच्चों को छुट्टी का दिन बहुत प्यारी लगता है। कविचा अच्छी लगी।

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

बाल मन की अच्छी रचना है
- विजय