गुरुवार, 25 जून 2009

बिल्ली-चूहा




आगे-आगे चूहा दौड़ा,

पीछे-पीछे बिल्ली।

भागे-भागे, दोनों भागे,

जा पहुँचे वो दिल्ली।




लाल किले पर पहुँच चूहे ने,

शोर मचाया झटपट।

पुलिस देखकर डर गई बिल्ली,

वापस भागी सरपट।

3 टिप्‍पणियां:

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

हा हा हा,मज़ा आ गया,
आपने तो बचपन की बातें याद दिला दी.
बहुत नटखट गीत,मनमोहक कविता.

परमजीत बाली ने कहा…

bahut sundar!!

Udan Tashtari ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.