बुधवार, 10 जून 2009

चल मुन्ना…



चल मुन्ना तुझे सैर कराऊँ,
बगिया में तितली दिखलाऊँ।
रात में देखेंगे हम तारे,
चंदामामा बड़े ही प्यारे।

2 टिप्‍पणियां:

AlbelaKhatri.com ने कहा…

ale le le le le le le le le
LE BADHAAI !

सहज साहित्य ने कहा…

आप इन सरल और ग्राह्य पंक्तियों से नन्हें -मुन्नों की कविताओं का अभाव पूरा कर रहे हैं ।