शनिवार, 5 सितंबर 2009

हाथी के दाँत


बच्चो, शायद हाथी ही एक मात्र ऐसा जानवर है जिसके पास दाँतों के दो सैट होते हैं। एक सैट मुँह के अंदर, एक सैट बाहर। हाथी अपने इन दाँतों से करते क्या हैं? जो पत्ते व ईख वगैरा हाथी भोजन के रूप में खाते हैं, उसे अपने मुँह के भीतर वाले दाँतों से चबाते हैं। मुख के बाहर दिखने वाले दाँत भोजन खाने अथवा चबाने में हाथी की कोई सहायता नहीं करते। तभी तो कहते हैं–‘हाथी के दाँत, खाने के और, दिखाने के और’।
हाथी की सूंड के दोनों ओर दो लंबे दाँत निकले होते हैं। इन्हें ही हम उसके बाहरी दाँत कहते हैं। हाथी के ये दाँत 6 फुट से भी अधिक लंबे हो सके हैं। अफ्रीकी हाथी के दाँत सबसे लंबे होते हैं। अभी तक के रिकार्ड के अनुसार हाथी के सबसे लंबे दाँत की लंबाई 301 सेंटीमीटर रही है।
क्या हाथी के ये दाँत केवल दिखावे के ही होते हैं? बच्चो, शरीर का कोई भी अंग मात्र दिखावे के लिए नहीं होता।शरीर के सभी अंग किसी न किसी काम के लिए बने होते हैं। आओ जानें कि हाथी अपने इन दो बड़े-बड़े दाँतों से क्या काम लेता है।
हाथी के ये दाँत बहुत मजबूत होते हैं। अपने इन दाँतो का प्रयोग वे अपने नन्हें बच्चों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए करते हैं। इन दाँतों से वे भूमि के नीचे की जड़ों को खोदने का काम भी लेते हैं। और ये नुकीले दाँत शत्रु से बचाने में उसकी बहुत मदद करते हैं। इनसे वह अपने शत्रु को घायल कर देता है। हाथी की मौत के बाद ये दाँत मनुष्य के भी बहुत काम आते हैं। इन से बहुत सी सुंदर वस्तुएँ बनती हैं। इसलिए ही ये बहुत कीमती होते हैं
-0-

3 टिप्‍पणियां:

ASHOK ने कहा…

हाथी के दाँतों के बारे में आपने अच्छी जानकारी दी है, बधाई।

सुनीता कुमारी ने कहा…

ज्ञानवर्धक लेख बच्चों के काम आयेगा।

Kamlesh ने कहा…

Haathi ke danton ke baare mein jankari bachon ka gyan badhayegi. Anya janvaron ke baare mein bhi jaankari dene ki kripa karen