रविवार, 6 दिसंबर 2009

अजब-गजब-2


आग का खेल- एल सल्वाडोर के नगर नेजपा में प्रत्येक वर्ष 31 अगस्त को ‘आग की गेंदों’ का वार्षिक उत्सव मनाया जाता है। इसमें स्थानीय लोग कपड़े से बनी और जलनशील पदार्थ में भीगी सुलगती गेंदें सीधी एक-दूसरे पर फेंकते हैं। वर्ष 1922 में इसी दिन एक ज्वालामुखी के फटने से उसका आग-सा दहकता लावा इस नगर में आ गया था। खतरनाक खेल होने के बावजूद आज तक इस खेल में बहुत अधिक नुकसान नहीं हुआ।

******


सुपर रेस्तरांजर्मनी के शहर न्यूरम्बर्ग स्थित एक रेस्तरां ‘बैगर्स’ में लोग मेज की टच सक्रीन पर टाइप कर आर्डर देते हैं। यह सिस्टम ग्राहकों को यह भी बताता है कि उनका दिया हुआ आर्डर कितनी देर में पूरा होगा। आर्डर के बाद खाद्य पदार्थ एक मिनी ट्रेन से आते हैं जो रसोई घर से डाइनिंग रूम तक चलती है। इस आटोमैटिक रेस्तरां मेंएक भी वेटर नहीं है।

******



दुनियां में ठोस सोने की सबसे बड़ी चीज - मिस्र के किशोर फराओ(बादशाह) तूतनखामन का ताबूत ठोस सोने का बना है और इसका वजन है 1113 किलो। इस समय यही दुनियां में ठोस सोने से बनी सब से बड़ी वस्तु है। अन्य प्राचीन कलाकृतियां जो सोने की बनी थीं वे गायब हो गई हैं। शायद उन्हें पिघला कर बेच दिया गया। एक सोने का लबादा था जिसका वजन एक टन था। यह द एंथंस के एक्रोपोलिस में एथेना की मूर्ति पर सजाया गया था।

1 टिप्पणी:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

जानकारियों के लिए धन्यवाद.