बुधवार, 24 फ़रवरी 2010

रामेश्वर काम्बोज हिमांशु के दो शिशु-गीत






माली


सींच-सींचकर हर पौधे को
हरा-भरा करता है माली।
रंग-बिरंगे फूलों से नित
बगिया को भरता है माली।
हर पौधे से और पेड़ से
बगिया में होती हरियाली।
*****







तोता


सीटी सुनकर नाच दिखाए
कुतर-कुतर कर फल खा जाए।
टें-टें करके गाता तोता
देख शिकारी झट उड़ जाए।
*****

4 टिप्‍पणियां:

सीमा सचदेव ने कहा…

बहुत ही प्यारे शिशु गीत हैं । बधाई....सीमा सचदेव ।
आज पहली बार आपका ब्लाग देखा , मुझे बहुत खुशी होती है किसी लेखक को बाल-साहित्य को समर्पित देखकर । आपका प्रयास सराहनीय है ।

गिरीश पंकज ने कहा…

sunda-sundar pyare geet.
geet ban gaye hai manmeet.
banaa rahe baal-sansaa,
baante kavita sabko pyaar..
himaanshu ji ko badhai,achchhe geet ke liye...

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

निसंदेह, दोनों गीत बहुत अच्छे हैं!
--
कह रहीं बालियाँ गेहूँ की –
"नवसुर में कोयल गाता है, मीठा-मीठा-मीठा!
हो... हो... होली है!
--
संपादक : सरस पायस

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

....बहुत मीठे-मीठे गीत !!