रविवार, 1 मई 2011

गरमी आई



गरमी आई, गरमी आई,
हाथी को बिलकुल न भाई।

मैनेजर को फोन लगाया,
बड़ा-सा बाथ-टब मंगवाया

बाथ-टब से बन गई बात,
 गरमी से मिल गई निजात।
 ******

5 टिप्‍पणियां:

Surendrashukla" Bhramar" ने कहा…

अजय विश्वास जी बहुत सुन्दर हाथी दादा को आप ने ठंडा कर दिया कोमल बच्चों को ये गणेश जी बहुत मजा लगायेंगे -और वे आनंद पाएंगे
धन्यवाद

Capricorn ने कहा…

bahut achchhi rachna

Capricorn ने कहा…

manmohak rachna...

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

रोचक . मनभावन प्रस्तुति . बहुत सुंदर . मेरी शुभकामनाएँ

चूहेमल का देखो खेल

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

मनभावन शिशु गीत. बहुत सुंदर . मेरी शुभकामनाएँ

चूहेमल का देखो खेल